समाचार

जानिए आखिर क्यों पहले चरण में कांग्रेस से पिछड़ गई भाजपा

लोकतंत्र और न्याय की दुहाई देने वाले राजनीतिक दलों की चाल क्या अपराधी प्रवृति के लोगों के बगैर संभव नहीं? गुजरात चुनाव के पहले चरण के उम्मीदवारों की लिस्ट देख कर ऐसा ही लगता है। आज तय हो जाएगा आपराधी प्रवृत्ती के कितने उम्मीदवार विजय पाएंगे।

पहले चरण की 89 सीटों में 923 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है जिनमें से 137 यानी 15 फीसद उम्मीदवारों के खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें से 78 के खिलाफ संगीन अपराधिक मामले दर्ज हैं।

उम्मीदवारों के चयन में किसी भी दल ने ईमानदार व गैर अपराधी प्रवृत्ति के नेताओं को अहमियत नहीं दी है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने उम्मीदवारों के नामांकन पत्र की जांच में पया है कि अपराध के आरोपियों के टिकट देने में राजनीतिक दलों में एक होड़ सी मची हुई है। कांग्रेस 89 में से 86 सीटों में चुनाव लड़ रही है। उसके उम्मीदवारों की सूची में 31 उम्मीदवारों के खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज हैं जिनमें से 20 गंभीर अपराधिक मामले के आरोपी हैं।

भाजपा सभी 89 सीटों में चुनाव लड़ रही है। भाजपा ने अपराधिक प्रवृत्ति के 20 व्यक्तियों को अपनी चुनावी टिकट दिया है उनमें से 10 के खिलाफ संगीन मामले दर्ज है। एनसीपी और बसपा ने भी एेसे लोगों को चुनाव मैदान में उतारा है, लेकिन उनकी संख्या 10 से कम है।

89 में से 67 विधायक भाजपा के हैं। कांग्रेस के 16 विधायक है। शेष विधायक निर्दलीय य़ा छोटे दलों के हैं।

Leave a Comment