महाभारत

जब अर्जुन द्रोपदी के सामने शर्मिंदा हुए

महाभारत का एक संस्करण कहता है कि पांडवों के बीच एक समझौता किया गया था कि यदि द्रौपदी पांडवों में से एक के साथ है तो उनके शयनकक्ष में नहीं जाना चाहिए। बेडरूम के बाहर रखा चप्पल की एक जोड़ी एक पांडव की उपस्थिति के संकेत है। अगर कोई भी पांडव यह समझौता तोड़ता है तो उसको कुछ समय के लिए वनवास भेज दिया जायेगा।

अर्जुन को कुछ कारणों से अपने गांडिव धनुष को लेने के लिए बेडरूम में प्रवेश करना था। चप्पल बाहर नहीं थी जिसका मतलब था की अंदर कोई नहीं है। लेकिन अर्जुन ने अंदर अपने बड़े भाई युधिष्ठिर और द्रौपदी को एक साथ देखा और अपने कार्य से शर्मिंदा महसूस किया।

अर्जुन द्रोपदी

बाद में पाया गया कि एक कुत्ते ने चप्पल को ले लिया था। अर्जुन के अंदर आने के पीछे यही कारण था लेकिन उसको कुछ समय के लिए वनवास पर जाना पड़ा क्योंकि उसने गलती से नियम का पालन नहीं लिया था।

इस बात से गुस्सा हो कर द्रौपदी ने सभी कुत्तों को शापित किया कि सभी कुत्तो को ऐसा करते हुए पूरी दुनिया देखेगी।

Leave a Comment