रामायण

मंदोदरी की किस गलती के कारण रावण मारा गया

रामायण के बारे में हम बचपन से सुनते आये है। रामायण का युद्ध 8 दिन तक चलने वाला यह भयंकर युद्ध प्रभु श्री राम ने दशहरे के दिन यानि दशमी को रावण के वध के साथ समाप्त किया। हमें सिर्फ यही पता है की रावण की मृत्यु की वजह उसका भाई विभीषण था। विभीषण ने ही श्री राम को अपने भाई रावण के मृत्यु का रहस्य बताया था। लेकिन ये आधा सच है। क्योकि रावण की मृत्यु के कारण का आधा सच उसकी की पत्नी मंदोदरी से जुडा है। आज हम आपको वो ही सच बताने जा रहे है जो मंदोदरी से जुडा है।

एक पौराणिक ग्रंथ हमें जानकारी देते हैं कि रावण ने राम को हराने के लिए बहुत सारे पूजा-यज्ञ किये थे। एक प्राचीन पौराणिक ग्रंथ रामकियेन अनुसार मंदोदरी ने उमा से संजीवनी यज्ञ का रहस्य जान लिया था। हनुमानजी ने मंदोदरी के इस यज्ञ को असफल करने के लिए रावण का रूप धारण किया था। और रावण का रूप लेकर वो मंदोदरी के पास गए। और उसकी सतीव्रता को नष्ट कर दिया। इससे यह यज्ञ असफल हो गया। रामकिये में रावण के प्रयासों का वर्णन हैं, जिसके अनुसार रावण संधि करना चाहता था। क्योकि वो युद्ध से बचना चाहता था। सेतु का निर्माण करने से पहले, रावण ने तपस्वी के रूप में राम से मिले थे। और उनसे युद्ध रोकने का आग्रह किया। इंद्रजीत की मृत्यु के बाद रावणे पितामह ब्रह्मा को बुलाया। ब्रह्मा ने सीता को लौटाने का आदेश दिया। लेकिन रावण ने उनके आदेश का पालन करने से इंकार कर दिया। आदेश अस्वीकार करने पर, ब्रह्माजी ने रावण को शाप दिया। ब्रह्माजी ने रावण को राम के तीर से मरने का शाप दिया। महानायक के अनुसार, रावण ने अपने दूत के जरिए राम कहा कि वह परशुराम से प्राप्त हरप्रसादपरशु के बजाय सीताजी को लौटाने के लिए तैयार है।

पढ़े: रामायण में शबरी की अद्धभुत कहानी

विभीषण ने श्री राम को अपने भाई रावण के मृत्यु का रहस्य बताया। उसने श्री राम को बताया की रावण की नाभि में अमृतकुंभ है। इस रहस्य को जानकर रावण पर श्री राम ने अग्नि बाण चलाया और उसकी मौत हो गई। सीताजी ने हनुमान को बताया कि रावण के पास एक मायावी खड्ग है, जिसकी मंदोदरी रोज पूजा करती है। हनुमानजी ने उस खडग को पाने के लिए एक चाल चली। हनुमानजी ने एक गलत अफवाह फैलाई कि रावण की मृत्यु हो गई है। मंदोदरी सदमे में आ गई और वह से भागी उन्होंने इस स्थिति का फायदा उठाया, और खड्ग को उठा लिया, और इस खड्ग से रावण का वध किया।

Leave a Comment