बिज़नेस

2008 के बाद की सबसे बड़ी मंदी के संकेत, जानिए क्या कहता है सर्वे

अगला साल सबसे खतरनाक वैश्विक मंदी का हो सकता है। मंदी 2008 से भी बड़ी होगी। जिसके संकेत मिलने शुरू हो गए है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने एक रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है। रिपोर्ट में 2 से 8 अगस्त के बीच दुनिया के कई सबसे बड़े फंड मैनेजरों का सर्वे किया गया। इस सर्वेक्षण में 224 निधि मैनेजरों ने भाग लिया था। इनमें से 34% फंड मैनेजरों का मानना ​​है कि अगले एक साल में बड़ी मंदी आ सकती है। यह मंदी अक्टूबर 2011 के बाद की सबसे बड़ी मंदी होगी।

सर्वेक्षण में शामिल आधे से अधिक मैनेजरों का कहना है कि कॉर्पोरेट समूह दबाव में हैं और उन्हें अपनी बैलेंस शीट में सुधार के लिए कदम उठाने चाहिए। सर्वेक्षण में कहा गया है कि अधिकांश निवेशकों का मानना ​​है कि कॉरपोरेट को अपनी बैलेंस शीट में सुधार पर ध्यान देना चाहिए, बायबैक और कैपेक्स बढ़ाने पर नहीं।

फंड मैनेजरों के अनुसार, आने वाले दिनों में व्यापार युद्ध भी वैश्विक मंदी का कारण हो सकता है। अमेरिका की चीन, ईरान, और भारत के साथ व्यापार युद्ध का संदेह गहरा रहा है। यह वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय है। यदि व्यापार युद्ध जारी रहा, तो कई देश इससे प्रभावित हो सकते हैं।

कई देशों ने मांग न होने के कारण अपने कारखाने में उत्पादन बंद कर दिया है। कंपनियों के पास पुराने स्टॉक का इतना स्टॉक है कि इसे खत्म होने में अभी भी लंबा समय लगेगा। चीन और भारत में ऑटो सेक्टर की स्थिति बिगड़ रही है। भारत में लगातार तीसरे महीने वाहनों की बिक्री में गिरावट आई है और चीन की भी ऐसी ही स्थिति है।

Leave a Comment