महाभारत

महाभारत में अर्जुन के पुत्र इरावन की कहानी

अर्जुन और नागा राजकुमारी उल्पू के पुत्र इरावन ने कुरुक्षेत्र युद्ध में अपने पिता की जीत सुनिश्चित करने के लिए काली को स्वयं बलि दिया। हालांकि, उनकी आखिरी इच्छा थी की वह मरने से पहले एक लड़की से शादी करना चाहता था।

अब जिसका पति कुछ दिनों में मरने वाला हो उसके साथ शाद्दी करने के लिए कोई भी लड़की तैयार नहीं हो सकती थी और ऐसी लड़को ढूढ़ना एक मुश्किल काम था।

उस वक़्त भगवान कृष्ण ने एक विनम्र मोहिनी का रूप ले लिया और इरावन से विवाह किया और उसके पति इरवान की मृत्यु के बाद भी विधवा की तरह रोते रहे।

इस कहानी के बारे में कुछ किस्सों और कहानी में बताया गया है। इस विषय पर अपना कमेंट जरूर दे

 

Leave a Comment