अकबर बीरबल कहानी कहानियां

अकबर बीरबल की मजेदार कहानी

एक दिन राजा अकबर की अंगूठी खो गई। जो राजा अकबर के लिए बहुत कीमती थी, क्योकि यह अंगूठी उनके पिताजी ने दी थी। इसीलिए अंगूठी खोने की वजह से वो बहोत परेशान और दुःखी हो गए।

राजा अकबर ने बीरबल को दरबार में बुलाने का आदेश दिया। जब बीरबल दरबार में हाजिर हुए तब राजा अकबर ने बीरबल से कहा की “बीरबल मेरी कीमती अंगूठी घूम गई है” जो मेरे लिए बहुत ही कीमती है। और राजा ने बीरबल को अंगूठी खोजने का अनुरोध किया।

दरबार पूरा भरा हुआ था। बीरबल ने कहा राजा अकबर अंगूठी कही घूम नहीं हुई है, आपकी अंगूठी यहि इसी दरबार में ही है। और यह अंगूठी जिसके पास है उसकी दाढ़ी में तिनका फसा हुआ है। सभी लोग यह सुनकर चोंक गए और एक दूसरे को देखने लगे। तभी सभी दरबारियों में से एक दरबारी अपनी दाढ़ी में से तिनका ढूंढने के लिए अपनी दाढ़ी को छूने लगा।

पढ़े : जब बीरबल ने अकबर को पाठ पढ़ाया

बीरबल ने सिपाहियों को बुलाया और शंकास्पद दरबारी की तलाशी लेने के लिए कहा। और जिस दरबारी तिनका ढूंढने के लिए अपनी दाढ़ी को छू रहा था और डरा हुआ था उसकी तलाशी लेने पर राजा अकबर की अंगूठी बरामद हुई। राजा अकबर इस बात से चकित थे कि बीरबल ने अंगूठी कैसे ढूंढी। तभी बीरबल ने राजा अकबर को कहा की, राजा अकबर जो दोषी है उनको हमेशा डर लगेगा।

Leave a Comment